Sunday, February 1, 2009

तुझे आना होगा...


है हर पल तेरा इंतज़ार
तुझे आना होगा
बैठीं हूँ नज़रें बिछाए राह पर
तुझे आना होगा
दरस की "कसक" बड़ा दी फान्सलों ने
तुझे आना होगा
कर चुकी हूँ ख़ुद को तबाह तेरे इश्क में
तुझे आना होगा
है यकीन मुझे मेरी इबादत पे
तुझे आना होगा
तुझे आना होगा...

3 comments:

Dr Gabby singh said...

its really really nice and inspires one for his dstination.

ktheLeo said...

वाह क्या बात है!

प्रशांत मलिक said...

etni jid...
bahut khoob..